श्रमिकों को 200 सिलाई मशीन एवं 4 लाभार्थियों को विवाह के लिए चार लाख के चेक वितरित किए

ऋषिकेश। श्रम विभाग उत्तराखंड सरकार द्वारा उत्तराखंड भवन एवं अन्य सनिन्नर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा भरत मंदिर इंटर कॉलेज के सभागार में विभिन्न पंजीकृत श्रमिकों को 200 सिलाई मशीन एवं 4 लाभार्थियों को विवाह के लिए चार लाख के चेक वितरित किए गए।
       कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में पहुंचे उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने कहा है कि जरूरतमंद लोगों को सरकार की योजना का लाभ अवश्य पहुंचना चाहिए। भरत मंदिर इंटर कॉलेज के सभागार में आयोजित पंजीकृत श्रमिकों को सिलाई मशीन वितरण कैंप के अवसर पर विधानसभा अध्यक्ष श्री प्रेम चंद अग्रवाल ने कहा है कि श्रमिकों के लिए केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार बेहतर कार्य कर रही है। श्री अग्रवाल ने कहा है कि केंद्र सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा श्रमिकों के लिए जो भी योजना संचालित की जा रही है उन सभी योजनाओं से कोई भी लाभार्थी वंचित ना रहे।
      श्री अग्रवाल ने कहा कि सिलाई मशीन से हम अपने स्वरोजगार के माध्यम से जीवन यापन कर सकते हैं उन्होंने कहा कि अंतिम व्यक्ति तक सरकारी योजनाओं का लाभ पहुंचना चाहिए। श्री अग्रवाल ने कहा है कि पंजीकृत श्रमिकों के पुत्री के विवाह के लिए कर्मकार कल्याण बोर्ड  द्वारा धनराशि उपलब्ध करवाई जाती है, इसी के साथ चिकित्सा सुविधा, श्रमिकों के बच्चों के पढ़ाई लिखाई के लिए आर्थिक सहायता, भवन निर्माण के लिए बिना ब्याज ऋण उपलब्ध करवाया जाता है। उन्होंने कहा कि बोर्ड द्वारा पंजीकृत श्रमिकों को निर्धारित आय के अनुसार 60 वर्ष की आयु के बाद 15 सो रुपए प्रतिमाह पेंशन का प्रावधान है। श्री अग्रवाल ने श्रम विभाग के अधिकारियों को निर्देशित करते हुए कहा कि आम आदमी तक योजनाओं का लाभ पहुंचाने के लिए व्यापक स्तर पर प्रचार प्रसार करना चाहिए ताकि कोई भी लाभार्थी योजना से वंचित ना रहे। इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी के मंडल अध्यक्ष चेतन शर्मा, मंडी समिति के पूर्व अध्यक्ष राकेश अग्रवाल, श्रम विभाग के सहायक श्रम आयुक्त उमेश चंद्र राय, तहसीलदार रेखा आर्य, सतीश चंद्र जोशी, किरण मंडल, पार्षद रीना शर्मा ,रंजन अग्रवाल, विवेक शर्मा, नितिन सक्सैना, विवेक कुमार ,अभिषेक कुकरेती ,आदि सहित बड़ी संख्या में लाभार्थी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*