विपक्ष ने गन्ना किसानों के बकाया भुगतान को लेकर किया सदन में जमकर हंगामा, गन्ने के टुकड़े लेकर पहुंचे वेल में

देहरादून। विधानसभा के बजट सत्र तीसरे दिन गन्ना किसानों के बकाया भुगतान के मसले पर विपक्ष ने सदन में जमकर हंगामा किया। उन्होंने सरकार पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाया और वेल में आकर नारेबाजी की। इस दौरान कुछ विधायक धरने पर भी बैठे। उनकी मार्शल के साथ धक्का-मुक्की भी हुई। हंगामे के चलते चार बार सदन की कार्यवाही स्थगित करनी पड़ी, जिस कारण प्रश्नकाल नहीं हो पाया। इसके बाद कांग्रेस विधायकों ने दिनभर के लिए सदन का बहिष्कार कर दिया।
बुधवार को सदन की कार्यवाही शुरू होते ही नेता प्रतिपक्ष डॉ. इंदिरा हृदयेश समेत कांग्रेस विधायकों ने गन्ना किसानों के बकाया भुगतान का मसला उठाते हुए इस पर नियम-310 के तहत चर्चा की मांग की। उन्होंने कहा कि भुगतान न होने के कारण गन्ना किसान खासे परेशान हैं। संसदीय कार्यमंत्री ने कहा कि इस विषय पर प्रश्न लगे हैं और सरकार इनका उत्तर देगी। सरकार गन्ना किसानों के भुगतान को लेकर गंभीर है। पीठ की ओर से भी कहा गया कि गन्ना किसानों से संबंधित दो अल्पसूचित प्रश्न हैं। अन्य प्रश्न भी महत्वपूर्ण हैं। पीठ ने इस विषय को नियम 58 की ग्राह्यता में सुनने की बात कही। लेकिन कांग्रेस विधायक नहीं माने और वेल में आकर नारेबाजी करने लगे। परिणामस्वरूप विधानसभा अध्यक्ष ने कार्यवाही आधे घंटे के लिए स्थगित कर दी। इसके बाद 11.45 बजे स्थगन की अवधि 10 मिनट और फिर 12.10 बजे तक कार्यवाही स्थगित कर दी गई। इसके बाद कार्यवाही शुरू होते ही विपक्ष ने हंगामा प्रारंभ कर दिया। कांग्रेस विधायक हाथों में गन्ने के टुकड़े लेकर वेल में आए और नारेबाजी करने लगे। वे पीठ से विनिश्चय की मांग भी करने लगे। पीठ से कहा गया कि विनिश्चय पहले दिया जा चुका है कि इस विषय को नियम 58 की ग्राह्यता पर सुन लिया जाएगा। कांग्रेस विधायक नहीं माने और हंगामा जारी रखा। इसी बीच आगे बढने को लेकर उनमें और मार्शल के बीच धक्का-मुक्की भी हुई। हंगामे के मद्देनजर कार्यवाही 12.20 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई। इसके साथ ही कांग्रेस विधायक भी सदन से उठकर चले गए और उसके बाद सदन में नहीं आए। उन्होंने विस परिसर में हाथों में गन्ने लेकर प्रदर्शन भी किया। इसके पश्चात सदन की कार्यवाही विपक्ष की गैरमौजूदगी में ही चली।
——————————————————————

गन्ना किसानों के मुद्दे को लेकर सदन में दो गुटों में बंटी दिखी कांग्रेस
देहरादून। उत्तराखंड विधानसभा में सत्र के तीसरे दिन सदन के अंदर और बाहर गन्ना किसानों के मुद्दे पर जमकर हंगामा हुआ। सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सदन में गन्ना किसानों का मुद्दा उठा। इस मुद्दे पर विपक्ष ने सरकार को घेरने की कोशिश तो कि लेकिन इस दौरान विपक्ष में दो फाड़ नजर आये।
विपक्ष गन्ना किसानों के मुद्दों को लेकर 310 नियम के तहत चर्चा की मांग को वेल में हंगामा कर रहा था। लेकिन विधानसभा स्पीकर प्रेमचंद अग्रवाल बार-बार नियम 58 के तहत इस मुद्दे पर चर्चा करने को कह रहे थे। कुछ देर बाद नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश तो नियम 58 के तहत चर्चा के लिए तैयार हो गई, लेकिन कांग्रेस के कुछ विधायक नियम 310 पर ही चर्चा करने के लिए अड़े रहे। ऐसे में सदन के अंदर सत्ता पक्ष को घेरने वाली कांग्रेस दो गुटों में बंटी नजर आई। कुछ विधायक नेता प्रतिपक्ष की बात पर इस मुददे पर नियम 58 के तहत चर्चा को राजी हो गए और कुछ 310 की मांग पर अड़े रहे। विपक्ष के हंगामे के बीच स्पीकर प्रेमचंद अग्रवाल ने सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी। आधे घंटे बाद सदन की कार्रवाई दुबारा शुरू तो हुई लेकिन हंगामे को देखते हुए विधानसभा अध्यक्ष ने प्रश्नकाल तक उसे स्थगित कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*