लोकतंत्र का महापर्वः लोगों में मतदान को लेकर खासा उत्साह

देहरादून।  उत्तराखंड की पांचों लोकसभा सीटों के लिए मतदान जारी है। मतदान को लेकर लोगों में खासा उत्साह देखने को मिल रहा है। मतदान सुबह 7 बजे शुरु हुआ जो कि सायं पांच बजे तक चलेगा। उत्तराखंड की पांचों लोकसभा सीटों पर 7856268 मतदाता कुल 52 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे। राज्‍य चुनाव आयोग के अनुसार, सूबे में सुबह 11 बजे तक 23.78 प्रतिशत तक मतदान हुआ है। निष्पक्ष और शांतिपूर्ण चुनाव के लिए प्रदेश को 237 सेक्टर और 1371 जोन में बांटा गया है। कुल 11229 पोलिंग बूथों पर 56145 कार्मिक तैनात किए गए हैं और 11235 रिजर्व में रखे गए हैं। सुरक्षा बलों को मिलाकर कुल 1.12 लाख कार्मिक चुनाव संपन्न करा रहे हैं। किसी अप्रिय घटना से निपटने के लिए भारी सुरक्षा बल और पुलिस की तैनाती की गई है।

देहरादून के यमुना कॉलोनी स्थगित बूथ में वोट डालने को लेकर प्रतिबद्धता का एक अनोखा नजारा देखने को मिला। 116 यमुना कॉलोनी निवासी प्रेमवती सैनी आधार कार्ड की फोटो कॉपी लेकर वोट डालने पहुंची, लेकिन महिला के पास वोटर आईडी व आधार कार्ड नहीं था। महिला को वोट डालने से रोक दिया गया। इसके बाद स्थानीय नेताओं ने डीएम से संपर्क किया और स्थिति की जानकारी दी। इस पर डीएम ने सिर्फ मदद करने से मना कर दिया, लेकिन महिला वोट डालने पर अड गई। इसके बाद डीएम से दोबारा संपर्क किया तो डीएम ने मकान की रजिस्ट्री दिखाने पर ही मतदान की अनुमति देने बात कही। इसके बाद महिला घर गई और मकान की रजिस्ट्री लेकर पहुंची, जिसके बाद महिला को वोट डालने की अनुमति दी गई। इस दौरान महिला के परिचित उसे वोट के चक्कर में न पड़ने की सलाह देते रहे, लेकिन महिला ने ठानी थी कि वह वोट जरूर डालेंगी।

उत्‍तराखंड की सभी सीटों पर मतदान के दौरान कई स्थानों पर ईवीएम ने भी धोखा दे दिया। ऐसे में करीब 30 मिनट से लेकर एक घंटे तक देरी से मतदान हुआ। इसके चलते मतदाताओं को लाइन में खड़े होकर परेशानी झेलनी पड़ी। गुरुवारसुबह करीब सात बजे से अधिकांश पोलिंग बूथ पर मतदान शुरू हो गया था। वहीं, कई स्थानों पर ईवीएम में तकनीकी दिक्कत के चलते मदतान में देरी आी। हरिद्वार के भगवानपुर विधानसभा क्षेत्र के  सिकरौदा में ईवीएम में खराबी के चलते सुबह 8 बजे मतदान शुरू हो सका। वहीं, इनायतपुर में भी करीब आधे घंटे देरी से मतदान हुआ।

रामनगर में बूथ पर वोट डालते हुए फोटो फेसबुक पर वायरल होने के बाद से चर्चा में है। प्रतिबंध के बावजूद कड़ी सुरक्षा के बीच बूथ के अंदर मोबाइल लेकर जाने और फोटो लेना भी तमाम सवाल खड़े कर रहा है। भले ही नगर में मतदान केंद्रों में मोबाइल ले जाना प्रतिबंधित है। सुरक्षा कर्मियों ने इस पर रोक भी लगाई थी। लेकिन इसके बावजूद लोग मोबाइल मतदान केंद्रों में ले गए और नियमो का उल्लंघन किया। नगर के बंबाघेर निवासी तुषार अग्रवाल ने मतदान केंद्र में वोट देते हुए एक फोटो फेसबुक पर अपलोड की। शिकायत मिलने पर निर्वाचन टीम सख्त हो गई। इसके बाद तुषार ने फ़ोटो डिलीट कर दी। इस मामले में पुलिस द्वारा आरोपित तुषार के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जा रहा है। इसके अलावा मतदान केन्‍द्र के भीतर वोट देते हुए विधायक दीवान सिंह की फ़ोटो भी वायरल हुई है। हालांकि इस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

स्वतंत्र व निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए 11229 मतदान केंद्रों में इतने ही पीठासीन अधिकारी और 44916 मतदान अधिकारी तैनात किए गए हैं। किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए 16000 पुलिस कर्मी, 17596 होमगार्ड, 4100 पीआरडी व 1509 वनकर्मी तैनात किए गए हैं। इसके अलावा केंद्रीय अर्द्धसैनिक बल की 65 कंपनियां भी चुनाव में तैनात की गई हैं। कुल 11229 बूथों में 697 अति संवेदनशील और 656 बूथ संवेदनशील घोषित किए गए हैं। चुनाव प्रक्रिया पर नजर रखने को 800 माइक्रो आब्जर्वर और 1180 वेबकास्टिंग टीम तैनात की गई हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*