मां दक्षिण काली की कृपा से मनुष्य के सभी बिगड़े काम बन जातेः स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी

हरिद्वार। श्री दक्षिण काली पीठाधीश्वर महामण्डलेश्वर स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज के सानिध्य में मंदिर में आयोजित नवरात्र अनुष्ठान के दौरान बड़ी संख्या में श्रद्धालु भक्त मां की आराधना करने पहुंच रहे हैं। स्थानीय श्रद्धालुओं के अलावा दूसरे प्रदेशों से भी भारी संख्या में नवरात्र अनुष्ठान में भाग लेने आए श्रद्धालुओं को मां दक्षिण काली की महिमा की जानकारी देते हुए स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी ने कहा कि मां दक्षिण काली की कृपा से साधक के सभी बिगड़े काम बन जाते हैं। मां सूक्ष्म आराधना से ही भक्तों का कल्याण कर देती हैं।
 परिवारों को मिलजुल कर मां की पूजा अर्चना करने में हिस्सा लेना चाहिए। नवरात्रों में मां की भक्ति से ही व्यक्ति के कल्याण का मार्ग प्रशस्त होता है। मां की कृपा से मनवांछित फल प्राप्त होता है तथा जीवन मंगलमय हो जाता है। मां दक्षिण काली की शक्तियां अपरम्पार हैं। आलौकिक शक्तियों का सानिध्य साधक को नवरात्रों के दौरान प्राप्त होता है। श्री दक्षिण काली पीठ की महिमा बताते हुए उन्होंने कहा कि शास्त्रों में भी वर्णन मिलता है कि दक्षिण काली पीठ पर साधना किए बिना साधक की साधना पूरी नहीं होती है। देश भर की शक्तिपीठों पर आराधना करने वाले तमाम साधक मां दक्षिण काली की आराधना करने के लिए हरिद्वार आते हैं। कजरी वन स्थित मां दक्षिण काली मंदिर प्राचीन काल से ही साधकों की कर्मभूमि रहा है। मां दक्षिण काली की कृपा से यहां आने वाले सभी साधकों व श्रद्धालुओं की मुरादें अवश्य पूरी होती हैं।
नवरात्रों में मां दक्षिण काली भक्तों को आशीर्वाद देने के लिए साक्षात रूप से विराजमान रहती हैं। मंदिर के अलौकिक वातावरण को अनुभव श्रद्धालुओं
को स्वयं ही होता है। नवरात्रों में कन्या का सम्मान किया जाना चाहिए। नारी स्वयं में एक शक्ति है। नारियों के सम्मान से ही देश प्रगति के पथ पर अग्रसर
होता है। शास्त्रों में भी कहा गया है कि जहां नारियों की पूजा होती है। वहां देवता स्वयं विराजमान होते हैं। इसलिए नवरात्रों में मां का पूजन करने के साथ नारी सम्मान का संकल्प भी श्रद्धालुओं को लेना चाहिए। इस अवसर पर आचार्य आशीष महाराज, स्वामी सत्यव्रतानंद, स्वामी प्रबोधानंद गिरी, महंत कमलजीत सिंह, महंत जसविंदर सिंह, महंत शिवशंकर गिरी, अंकुश शुक्ला, आचार्य पवन दत्त मिश्र, बालमुकुनंदा ब्रह्मचारी, पंडित शिवकुमार, सनातन सेवा मिशन के अध्यक्ष अमित वालिया आदि सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु भक्त मौजूद रहे और मां के दरबार में माथा टेककर आशीर्वाद लिया और देश की खुशहालीके लिए मां से प्रार्थना की।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*