भूकंप के झटकों से डोल उठी उत्तराखंड की धरती

देहरादून।  भूकंप के झटकों  से उत्तराखंड की धरती डोल उठी। इसका केंद्र अतिसंवेदनशील रुद्रप्रयाग जिले के अगस्त्यमुनि ब्लाक के तोलियों गांव में था। भूकंप के तेज झटकों से राज्यभर में शहर से लेकर गांवों तक लोग घरों से बाहर निकल आए। हर ओर अफरा-तफरी की स्थिति बन गई। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 5.5 मापी गई।
प्रशासनिक अधिकारियों के अनुसार देर रात तक किसी तरह के नुकसान की सूचना नहीं थी। शासन स्तर पर सभी जिलाधिकारियों को अलर्ट रहने को कहा गया है। उधर, सर्वाधिक संवेदनशील केदारपुरी में भी भूकंप के झटकों से वहां रह रहे चार सौ से अधिक लोग रातभर दहशत में रहे। वीरवार से चमोली जिले के गैरसैंण में विधानसभा के शीत सत्र के लिए वहां मौजूद मंत्री, विधायक और अधिकारी भी भूकंप के झटकों के बाद कमरों से बाहर निकल आए।
गढ़वाल और कुमाऊं क्षेत्र में बुधवार रात आठ बजकर 50 मिनट और इसके कुछ क्षण बाद भूकंप के लगातार दो झटके महसूस किए गए। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के अनुसार भूकंप का केंद्र रुद्रप्रयाग जिले के अगस्त्यमुनि ब्लाक स्थित तोलियों गांव के पास कार्तिक स्वामी मंदिर के पीछे की पहाड़ी पर 30 किमी की गहराई में था।  बताया कि फिलहाल किसी भी जिले में भूकंप से किसी प्रकार के नुकसान की सूचना नहीं है। भूकंप के लिहाज से राज्य के अति संवेदनशील श्रेणी वाले जनपदों में सभी जिलाधिकारियों को अलर्ट पर रखा गया है। अधिकारी देर रात तक आपदा नियंत्रण कक्ष से स्थिति पर नजर बनाए हुए थे। अस्थायी राजधानी दून में भी लोग भूकंप के झटकों से घरों से बाहर आ गए। रात की पाली में काम करने वाले दफ्तरों में अफरा-तफरी का माहौल रहा। राज्य मौसम केंद्र के अनुसार भूकंप देशांतर पर 30.4 नॉर्थ और 79.1 ईस्ट में दर्ज हुआ है। भूकंप के 5.5 तीव्रता के पहले झटके के कुछ क्षण बाद 4.2 तीव्रता का दूसरा झटका महसूस किया गया। पर्वतीय जिलों के दूरस्थ इलाकों में कई घरों में दरारें उभरने की सूचना मिल रही हैं। हालांकि आधिकारिक तौर पर कोई भी इसकी पुष्टि नहीं कर रहा है।  बताया गया कि सीमांत जिलों में पुलिस व आइटीबीपी को अलर्ट पर रखा गया है। तहसीलदारों से गंगा व यमुना घाटी के दूरस्थ गांवों की रिपोर्ट मांगी गई है। देहरादून के डीएम एसए मुरूगेशन ने भी किसी तरह की नुकसान की सूचना से इन्कार किया। उधर, कुमाऊं में भी पिथौरागढ़, अल्मोड़ा, बागेश्वर, चंपावत, नैनीताल व ऊधमसिंहनगर जिलों में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। हालांकि, वहां भी देर रात तक नुकसान की कोई सूचना नहीं थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*