पाकिस्तान ने भारतीय सीमा में गिराए बम, तनाव बढ़ा, भारत ने एक F-16 को मार गिराया

नई दिल्ली (एजेंसी)।  पाकिस्तानी वायुसेना के विमानों ने जम्मू-कश्मीर के सीमावर्ती क्षेत्रों में स्थित भारतीय रक्षा ठिकानों को निशाना बनाने का प्रयास किया, जिसे हमारी सजग सेना ने नाकाम कर दिया। भारतीय सीमा में घुस आए पाक के एफ-16 विमानों को भारतीय वायुसेना के मिग-21 विमानों ने खदेड़ा। उसके एक एफ-16 विमान को मार गिराया। हालांकि इसी दौरान एक मिग विमान पाक सीमा में जा गिरा।

पाक ने दावा किया है कि उसने भारत के दो विमानों को मार गिराया है और दो पायलटों को पकड़ लिया है। इनमें से एक की पहचान भी बताई गई है। दिनभर पाकिस्तान दो पायलट पकड़ने का दावा करता रहा, लेकिन शाम होते-होते उसने यू टर्न ले लिया और कहा कि एक ही पायलट उसके कब्जे में है। शाम को भारत ने भी पुष्टि कर दी कि पायलट पाकिस्तान के कब्जे में है। पाकिस्तान से उसे भारत को लौटाने की मांग की है। इस बीच भारत के कड़े तेवर देखते हुए पाक पीएम इमरान खान के तेवर नरम पड़े और शांति व बातचीत की गुहार लगाने लगे। मोदी ने शीर्ष सुरक्षा, खुफिया अफसरों संग बैठक की पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों द्वारा भारतीय सीमा के उल्लंघन के बाद पीएम नरेंद्र मोदी ने पीएमओ में शीर्ष सुरक्षा व खुफिया अफसरों के साथ बैठक की। इसमें एनएसए अजित डोभाल के अलावा तीनों सेनाओं के वरिष्ठ अफसरों ने ताजा हालात की समीक्षा की। अफसरों ने पीएम को पाकिस्तान जेट विमान व वायुसेना के मिग-21 को गिराए जाने और पायलट के लापता होने की जानकारी दी। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार व एयर वाइस मार्शल आरजीके कपूर ने प्रेस कांफ्रेंस कर मीडिया को जानकारी दी। देर शाम सेना प्रमुख जनरल जनरल बिपिन रावत ने भी पीएम से मुलाकात की। भारत को पक्की सूचना मिली थी कि जैश के आत्मघाती हमलावर देश में और हमलों की साजिश रच रहे हैं। इसीलिए मंगलवार को जैश-ए-मोहम्मद के अड्डों को खत्म कर आतंकवाद के खिलाफ कार्रवाई की थी, लेकिन उसके जवाब में पाकिस्तान ने बुधवार को भारत नाकाम प्रयास किया। हमारे जवानों की उच्चस्तरीय तैयारी व सजगता के कारण रक्षा ठिकानों पर हमले के प्रयास का नाकाम कर दिया गया। पाक वायुसेना के विमान देखते ही भारतीय वायुसेना ने तत्काल उन्हें घेरा। हवा में ही हुई झड़प में पाक के एक लड़ाकू विमान को मिग-21 ने मार गिराया। सीमा पर तैनात हमारे जवानों ने इस विमान का मलबा पाक सीमा में गिरते देखा। इस कार्रवाई के दौरान दुर्भाग्य से हमने एक मिग–21 खो दिया और पायलट लापता हो गया। शाम को भारत ने पुष्टि कर दी कि पायलट पाकिस्तान के कब्जे में है। उसे पाकिस्तान से भारत को लौटाने के लिए कहा गया है। भारत ने पाकिस्तान को डोजियर सौंपा है। गिरफ्तार भारतीय पायलट का नाम अभिनंदन बताया। इस्लामाबाद में पाक सेना के प्रवक्ता मेजर जनरल आसिफ गफूर ने दावा किया कि पाकिस्तानी वायु सीमा में घुसे भारतीय वायुसेना के दो पायलटों को गिरफ्तार किया गया है। हालांकि शाम को वह पलट गया और कहा कि एक ही को पकड़ा गया है।गफूर ने गिरफ्तार पायलट के पास से कथित तौर पर मिले सामान व दस्तावेज भी बताए। पाक सेना ने 46 सेकंड का वीडियो भी जारी किया है, जिसमें एक व्यक्ति हाथ जोड़कर कह रहा है कि मैं भारतीय वायुसेना का विंग कमांडर अभिनंदन हूं। मेरा सर्विस क्रमांक 27981 है।’ हालांकि इस वीडियो की सचाई की अभी पुष्टि नहीं हुई है। गफूर ने दावा किया कि पाक वायुसेना ने बुधवार सुबह सीमा में रहकर भारत के छह ठिकानों को निशाना बनाया। रक्षा प्रतिष्ठानों को निशाना नहीं बनाया गया। पहले सैन्य व प्रशासकीय संस्थान निशाने पर थे, लेकिन हमने ऐसा नहीं किया। पाक के हमलों के बाद भारत के दो जेट पाक सीमा में घुस आए और दोनों को मार गिराया। एक विमान का मलबा पीओके में और दूसरा भारत के अंदर गिरा। गफूर ने दावा किया कि सही अर्थो में यह बदला था और यह बताने के लिए था कि हम बदला ले सकते हैं। लेकिन हम क्षेत्र को युद्ध में नहीं झोंकना चाहते, हम शांति चाहते हैं। हमारा संदेश शांति है। अंतरराष्ट्रीय समुदाय मदद करे। भारतीय विदेश मंत्रालय की दिल्ली में प्रेस कांफ्रेंस के तत्काल बाद पाक पीएम इमरान खान ने धमकी देने के साथ ही कहा कि दो परमाणु शक्ति संपन्न देशों को तनाव बढ़ने की दशा में उसके अंजाम को लेकर कोई गलत अनुमान नहीं लगाना चाहिए। पाक टीवी पर संदेश में खान ने कहा कि हमारी आज की कार्रवाई सिर्फ यह बताने के लिए थी कि यदि आप हमारे देश में घुसे तो हम भी ऐसा कर सकते हैं। हमने उनके दो मिग मार गिराए हैं। कोई नहीं जानता जंग का अंजाम क्या होगा। दोनों पक्ष समझदारी का परिचय दें और बेहतर समझ पैदा करें। मैं भारत से कहता हूं कि हथियार (परमाणु) आपके पास हैं तो हमारे पास भी हैं। क्या हम जंग का खतरा ले सकते हैं। यदि हालात बिगड़े तो यह न मेरे नियंत्रण में रहेंगे और न ही नरेंद्र मोदी के। भारत के साथ बढ़ते तनाव के बीच पाकिस्तान ने बुधवार को अपने सभी बड़े एयरपोर्ट से व्यावसायिक उड़ानें रद कर दीं। इनमें इस्लामाबाद, लाहौर व कराची एयरपोर्ट शामिल हैं। पाक वायुसेना द्वारा भारतीय रक्षा प्रतिष्ठानों को निशाना बनाने के प्रयास पर भारत ने दिल्ली स्थित पाक के उप-उच्चायुक्त सैयद हैदर शाह को तलब कर कड़ी आपत्ति जताई। उन्हें भारतीय पायलट को बंधक बनाने पर भी आपत्ति दर्ज कराई गई। उधर इस्लामाबाद में भारत के कार्यवाहक उच्चायुक्त गौरव अहलुवालिया को पाक विदेश मंत्रालय ने तलब कर सीमा पर भारत द्वारा अकारण गोलाबारी का आरोप लगाते हुए निंदा की गई। पाकिस्तानी सेना को जिनेवा युद्ध बंदी एक्ट के तहत पाकिस्तान को भारतीय पायलट को रिहा करना ही होगा। एक भारतीय पायलट को पाक सेना ने बुधवार को अपने कब्जे में ले लिया है। मेजर जनरल रिटायर्ड केके सिन्हा के मुताबिक कारगिल युद्ध के दौरान फ्लाइट लेफ्टिनेंट नचिकेता का पाकिस्तान में उतरना और पाक सेना द्वारा उन्हें पकड़ना और फिर उनका सही-सलामत वापस आना एक बड़ा उदाहरण देश के सामने है। सिन्हा ने कहा कि अगर हमारे पायलट को कुछ भी होता है तो यह जिनेवा एक्ट का उल्लंघन होगा और यह पाकिस्तान को बहुत भारी पड़ेगा। जिनेवा संधि के तहत युद्धबंदी से कुछ पूछने के लिए उसके साथ जबरदस्ती नहीं की जा सकती है। उनके खिलाफ धमकी या दबाव का इस्तेमाल नहीं हो सकता। पर्याप्त खाने और पानी का इंतजाम करना उन्हें बंधक रखने वालों की जिम्मेदारी होगी। उन्हें वही मेडिकल सुविधाएं भी हासिल होंगी जो भारत मुहैया करवाता है। जिनेवा संधि के मुताबिक, युद्धबंदियों पर या तो मुकदमा चलाया जाएगा या फिर युद्ध के बाद उन्हें लौटा दिया जाएगा। पकड़े जाने पर युद्धबंदियों को अपना नाम, सैन्य पद और नंबर बताने का प्रावधान किया गया है। अंतरराष्ट्रीय सीमा व नियंत्रण रेखा पर तैनात सेना व बीएसएफ के जवानों को समूची सीमा पर सर्वोच्च स्तर का अलर्ट जारी किया गया है। पाक सेना ने मंगलवार को पूरी रात जम्मू, पुंछ व राजौरी जिलों में अग्रिम चौकियों व रिहायशी क्षेत्रों में भारी गोलाबारी की थी। हालांकि बुधवार सुबह यह थम गई। उधर जम्मू-कश्मीर के पुंछ व राजौरी जिलों में नियंत्रण रेखा के पांच किलोमीटर के दायरे में स्थित शिक्षा संस्थानों को बंद कर दिया गया है। सीमा क्षेत्रों में रहने वाले लोगों को भी घरों में ही रहने को कहा गया। कुछ लोगों ने भय के मारे सुरक्षित स्थानों पर कूच कर दिया है।पाकिस्तान के विमानों द्वारा भारतीय क्षेत्रों में घुसने के बाद बढ़े तनाव के बीच बुधवार सुबह करीब 12 बजे डीजीसीए ने नौ एयरपोर्टो से उड़ानें रोक दी थी। भारतीय विमानतल प्राधिकरण (एएआई) ने ‘नोटिस टू एयरमैन’ (नोटैम) जारी करते हुए 27 फरवरी से 27 मई तक उड़ानों पर रोक का आदेश जारी किया था, हालांकि करीब दो घंटे बाद ही यह वापस ले लिया गया और इन एयरपोर्टो से उड़ानें तत्काल फिर शुरू कर दी गई। एएआई देश के 100 से ज्यादा एयरपोर्टो का संचालन करता है। उसने कहा कि बुधवार को कुछ देर के लिए अस्थाई रूप से नौ एयरपोर्ट बंद किए गए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*