धर्म आधारित राजनीति ही कल्याणकारीः सुरेंद्र जैन, विश्व संवाद केन्द्र की पत्रिका का विमोचन

देहरादून। विश्व संवाद केन्द्र की पत्रिका हिमालय हुंकार के धर्म और राजनीति विशेषांक के विमोचन के अवसर पर सुरेंद्र जैन संयुक्त सचिव विश्व हिंदू परिषद ने कहा कि धर्म आधारित राजनीति ही कल्याणकारी हो सकती है। धर्म जीवन मूल्यों को स्थापित करता है। धर्म राजनीति को सही दिशा में ले जाकर मानव कल्याण के लिए काम करता है। हिमालय हुंकार पाक्षिक पत्रिका का ‘धर्म और राजनीति’ विशेषांक का विमोचन महादेवी कन्या पाठशाला के सभागार में सम्पन्न हुआ।  कार्यक्रम केे मुघ्ख्य वक्ता सुरेन्द्र जैन संयुक्त महामंत्री विश्व हिन्दू परिषद व पूर्व प्राचार्य हिन्दू महाविद्यालय रोहतक ने धर्म के महत्व के बताते हुए कहा कि क्रूर राजनीति को धर्म ही सही राह पर लाता है।
उन्होंने कहा कि अभी तक हम धर्म का सही अर्थ नहीं समझ पाये हैं, धर्म का सम्बन्ध किसी पंथ या पूजा पद्धति से नहीं है। धर्म का अर्थ व्यापक है और धर्म एक विशेष प्रकार का चिन्तन व आचरण है। उन्होंने धर्म के अर्थ को समझाते हुये कहा कि हमारे शास्त्रों में कहा गया है कि जो लोक व परलोक का कल्याण करता है और सबको अपने जैसे समान रूप से देखे वही धर्म है। श्री जैन ने कहा कि देश में यह बात फैलाई जा रही है कि राम मन्दिर के बाद देश को हिन्दू राष्ट्र बनाया जा रहा है। परन्तु हिन्दू धर्म क्या है इसको समझना चाहिए। पाश्चात्य भाषा ‘सेक्युलर’ में धर्म को नहीं समझा जा सकता उसके लिए सही धारणा का होना जरूरी है। क्योंकि सही अर्थों में मनुष्य की पावन व कल्याणकारी धारणा का नाम ही धर्म है और जहां संविधान की सीमाएं समाप्त होती है, वहीं धर्म की शुरू होती है। इसी लिए हम कहते हैं कि ‘‘गर्व से कहो हम हिन्दू हैं।’ उन्होंने बताया कि ‘क्रूकसेड’ और ‘जिहाद’ का इतिहास रक्तरंजित इतिहास है, जबकि हमारा हिन्दू धर्म दर्शन की गौरवशाली परम्परा रही है ऋषि कणाद ने व मनुस्मृति, भगवत गीता आदि में मावन जीवन के मूल्यों का व्याख्यान किया है और यही नहीं देश के सुप्रीम कोर्ट ने हिन्दू धर्म को परिभाषित करते हुए कहा कि ‘‘हिन्दू धर्म पूजा पद्धति नही है, यह जीवन जीने की कला है।’’
उन्होंने बताया कि धर्म, दण्ड से भी ऊपर है, स्वराज्य को महात्मा गांधी ने रामराज्य माना था। गांधी का हिन्द स्वराज, एकात्म मानववाद इन दोंनों में बहुत ही समानता है क्योंकि राजनीति में धर्म की उपेक्षा नहीं होनी चाहिए। धर्म के बिना कल्याणकारी राजीनीति नहीं हो सकती। उन्होंने विशोषांक के राजनीति शब्द की विवेचना करते हुए कहा कि प्रशासन उसके लिए नीति और नीति के लिए पद्धति यही राजनीति है। वर्तमान राजनीति में अधिकारों की सभी बात करतें हैं परन्तु अपने संवैधानिक कत्र्वयों की कोई भी चर्चा होनी चाहिए। श्री जैन ने कहा कि राज किसी का भी हो परन्तु भारत हिन्दू राष्ट्र है और रहेगा, कोई इसे बदल नही सकता। राम-राज्य की कल्पना आज के समय में ‘जीवन मूल्य’ स्थापित करने का उद्देश्य है। धर्म का अनुसरण करने वाले ही कल्याणकारी योजनाएं चला सकते हैं। हिन्दू धर्म कभी भी ‘थियोक्रेटिक’ नहीं हो सकता। धर्म उदासीन और शून्य तो बिल्कुल भी नहीं हो सकता। देश का विकास केवल धर्म के मार्ग पर चल कर ही सम्भव है। कार्यक्रम के अध्यक्ष गुरुदेव सिंह वारने अध्यक्ष गुरु नानक देव एजूकेशनल सोसायटी ने कहा कि राजा धर्म को भूल जाये तो उसे स्मरण कराना धर्म का कत्र्वय है। सिख धर्म में राम राज्य को महान व श्रेष्ठ माना गया है। धर्म राजनीति को नियंत्रित करता है, जहां राजनीति भटक जाये तो वहां धर्म उसे ठीक करेगा। इस अवसर पर विश्व संवाद केन्द्र के निदेशक विजय कुमार ने कहा कि हिन्दू जीवन पद्धति में धर्म का विशेष महत्व है जैसे पिता-पुत्र, पति-पत्नि, गुरु-शिष्य, राजा-प्रजा प्रत्येक को अपना-अपना धर्म निभाना होता है। उसी प्रकार धर्म-राजनीति का भी अपना महत्व है जिसे समझना आवश्यक है जो इस विशेषांक में प्रस्तुत है। इस अवसर पर विश्व संवाद केन्द्र के सचिव राजकुमार टोंक ने विश्व संवाद केन्द्र की पृष्ठभूमि व कार्यो के बारे मंे बताया। हिमालय हुंकार के इस विशेषांक के सम्पादक राजेन्द्र पत में मंच संचालन किया और संवाद केन्द्र के अध्यक्ष सुरेन्द्र कुमार मित्तल ने सभी आगन्तुकांे का धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर क्षेत्र कार्यवाह शशिकान्त दीक्षित, प्रान्त प्रचारक युद्धवीर, सह प्रान्त व्यवस्था प्रमुख अनिल मित्तल, सह प्रान्त प्रचार प्रमुख संजय, प्रज्ञा प्रवाह क्षेत्र संगठन मंत्री भगवती प्रसाद, हिमालय हुंकार सम्पादक रणजीत सिंह ज्याला सहित कई विद्वत जन उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*