दिव्यांगों की शिक्षा एवं पुनर्वास के क्षेत्र में अनुसंधान पर कार्यशाला आयोजित 

मुनिकीरेती। उत्तराखंड मुक्त विश्वविद्यालय एवं भारतीय पुनर्वास परिषद् दिल्ली के संयुक्त तत्वाधान में दिव्यांगों की शिक्षा एवं पुनर्वास के क्षेत्र में अनुसंधान सम्बन्धी कार्यशाला का आयोजन श्री दर्शन महाविद्यालय में किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रुप में उत्तराखंड विधानसभा अध्यक्ष प्रेम चंद अग्रवाल ने कहा कि दिव्यांगजनों को आत्मविश्वास एवं स्वाभिमान के साथ खड़ा होकर समाज के मुख्यधारा से जोड़ना चाहिए।
      श्री अग्रवाल ने कहा कि उत्तराखंड में प्रथम बार हो रही इस प्रकार की कार्यशाला का होना विषय की गंभीरता को बताता है उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि पूरे देश में विभिन्न प्रकार की दिव्यांग लोगों की संख्या 2.5 प्रतिशत यानी 2 करोड़ पचास लाख से अधिक है। उत्तराखंड राज्य के परिपेक्ष्य में श्री अग्रवाल ने कहा कि उत्तराखंड प्रदेश में में देखे तो ये आंकड़ा लगभग 2 लाख बैठता है जिनमें से सूचना के अधिकार के अंतर्गत 18000 दिव्यांग बच्चे राज्य में मानवीय संसाधन (विशेष शिक्षक) की कमी के कारण शिक्षा से वंचित हैं। वर्तमान समय में हम सबकी ये जिम्मेदारी है कि हम इन दिव्यान्गों की शिक्षा एवं पुनर्वास के लिए अपने आसपास लोगों को जागरूक करें। उन्होंने कहा कि विज्ञान, गणित, इतिहास इत्यादि विषयों में शोध बहुत हुए हैं और होते रहे हैंद्य अब आवश्यकता है कि कैसे हम दिव्यांग लोगों को सशक्त करें कैसे उनका पुनर्वास किया जायेद्य इन बातों में शोध- अनुसंधान करना आवश्यक है। हमारे बीच में कई ऐसे उदाहरण हुए हैं जिन्होंने दिव्यांग होने के बाद भी कभी दिव्यान्गता को अपने ऊपर हावी नही होने दिया जैसे महान कवि सूरदास, महान वैज्ञानिक स्टिफन हाकिंस, भारतीय प्रशासनिक सेवा में चयनित सुश्री इरा सिंघलद्य दिव्यांगो के लिए भारत सरकार के सामजिक न्याय अधिकारीता मंत्रालय के अधीन कई संस्थान कार्य कर रहे हैं। श्री अग्रवाल ने कहा कि उत्तराखंड राज्य में स्थित मुक्त विश्वविद्यालय, हल्द्वानी द्वारा राज्य में इस तरह की कार्यशाला से दिव्यांग लोगो के सशक्तिकरण में लाभ मिलेगा। आप लोगों द्वारा भविष्य में की जाने वाले अनुसंधान से देश में दिव्यांग लोगो को सशक्त करने में सहायता मिलेगी। इस अवसर पर उच्च शिक्षा उन्नयन समिति की उपाध्यक्ष दीप्ति रावत, नगर पालिका मुनीकीरेती के अध्यक्ष रोशन रतूडी निदेशक प्रोफेसर आशीष मिश्र चेतन शर्मा, दर्शन महाविद्यालय के प्रधानाचार्य राधा मोहन दास, कार्यक्रम संयोजक सिद्धार्थ पोखरियाल डॉ पूजा जुयाल, सुभाष रमोला, डॉक्टर मनीषा पंत ,डॉ नरेंद्र,  निधि डॉ श्याम सिंह कुंजवाल आदि सहित अनेक लोग उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*