डब्लूआईसी इंडिया में आयोजित हुई डायमंड मास्टर क्लास

-लोगों को दिए हीरे खरीदने के टिप्स
देहरादून। वर्ल्ड इंटीग्रिटी सेंटर इंडिया ने कमल ज्वैलर्स वह फॉरएवर मार्क के सहयोग से आज अपने परिसर में डब्लूआईसी मेंबर्स  के लिए डायमंड मास्टर क्लास का आयोजन किया। सत्र का आयोजन कमल ज्वैलर्स के सत्यम रस्तोगी और फॉरएवर मार्क के अध्यक्ष सचिन जैन की उपस्थिति में किया गया। एक लकी डायमंड प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया।
सत्र का ध्यान हीरे के 4 सी पर केंद्रित रहा कैरेट वजन, कट, क्लैरिटी और कलर। कवर किए गए अन्य विषय में कई बातों का जिक्र किया गया, जैसे की हीरे खरीदते समय क्या क्या देखना चाहिए और हीरे इतने कीमती क्यों होते हैं। सत्र का आयोजन हेड ट्रेनर फॉरएवर मार्क लीना अमीन द्वारा किया गया। इस अवसर पर बोलते हुए सचिन जैन ने कहा, “हीरा कैरेट हीरे के वजन के मापन की इकाई है। एक उच्च गुणवत्ता वाला डायमंड कट के परिणामस्वरूप एक सममित शानदार पत्थर में अधिकतम चमक देखी जा सकती है।उन्होंने आगे दर्शकों को अवगत कराया कि हीरे की स्पष्टता उसके भीतर मौजूद समावेशन और विकृति के होने या न होने को इंगित करती है। इस अवसर पर बताते हुए, सत्यम रस्तोगी ने कहा, “एक ठीक से कटा हुआ हीरा प्रकाश को ऊपर से अवशोषित कर अपनी चमक दर्शाता है। चमक के बाद आमतौर पर दूसरी चीज जिसे आप हीरे में देखते हैं वह उसका रंग होता है।यह भी याद रखें कि हीरे की कटौती किसी भी प्राकृतिक दोष को खत्म करने में एक लंबा रास्ता तय कर सकती है। इस अवसर पर डब्लूआईसी के सदस्यों में पदमिनी लुल्ला, अनीता नौटियाल, मंजुली गरोला और हरीश चंद्र सहित कई अन्य लोग उपस्थित रहे।
आईसीएफएआई में तननीकी विकास और कानून के बदलते आयाम पर राष्ट्रीय सम्मेलन आयोजित सम्मेलन में 65 से अधिक विश्वविद्यालयों के 330 छात्र शोधकर्ताओं और विद्वानों ने भाग लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*