गुजरात में सूरत के कोचिंग सेंटर में लगी आग, 20 छात्रों की मौत, कुछ छात्रों ने कूदकर जान बचाई

अहमदाबाद। गुजरात के सूरत में शुक्रवार को तक्षशिला कॉम्प्लेक्स की दूसरी मंजिल पर स्थित एक कोचिंग सेंटर में भीषण आग लग जाने से अफरातफरी मच गई। इस दौरान आग और धुएं से बचने के लिए कुछ छात्रों ने तीसरी और चौथी मंजिल से कूदकर जान बचाई। आग की चपेट में आने से करीब 20 छात्रों की मौत हो गई।

सूरत के कोचिंग सेंटर में लगी आग पर पीएम नरेंद्र मोदी ने दुख जताया है। पीएम ने गुजरात सरकार से बात करके हर संभव मदद देने को कहा है। गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने घटना की जांच के आदेश दिए हैं। साथ, ही मृतकों के परिजनों को मुआवजा देने का भी एलान किया है। गुजरात के मुख्यमंत्री ने आग के प्रभावितों के लिए मुआवजे का एलान किया। मृतकों के परिवार को चार लाख रुपये का मुआवजा मिलेगा। रूपाणी इस हादसे में घायल लोगों से मिलने के लिए अस्पताल पहुंचे। सूरत की आगजनी में मारे गए डेढ दर्जन से अधिक बच्‍चों के शव बुरी तरह क्षत विक्षत हो जाने से अब उनका डीएनए टेस्‍ट होगा। माता पिता के डीएनए के साथ मैच कराने के बाद ही शव परिजनों को सौंपे जाएंगे। अहमदाबाद, राजकोट शहरों में चल रहे अनाधिक्रत ट्यूशन क्‍लासेज पर एहतियात के तौर पर रोक लगा दी है। इन शहरों में प्रशासन ने कलासेज में सुविधाओं व सुरक्षा उपायों की जांच भी शुरु कर दी है। केवल मान्‍यता प्राप्‍त शिक्षण संस्‍थान ही क्‍लासेज चला सकेंगे।  भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी इस हादसे पर दुख जताया है। अमित शाह ने भाजपा कार्यकर्ताओं से जरूरतमंदों की मदद करने के लिए कहा है। सूरत के पुलिस कमिश्नर सतीश कुमार मिश्रा के मुताबिक, आग में कम से कम 19 लोगों की मौत हो गई है। मौत का आंकड़ा बढ़ सकता है। आग कॉम्प्लेक्स की दूसरी मंजिल पर स्थित कोचिंग सेंटर में लगी है। इस दौरान कुछ छात्रों  कूदकर जान बचाई है। इस हादसे में करीब 19 छात्रों की मौत हो चुकी है। अब तक करीब 19 छात्रों के शव भी निकाले जा चुके हैं।  गुजरात में सूरत के सरथाना इलाके के कॉम्प्लेक्स की दूसरी मंजिल पर आग लगी है। घटनास्थल पर फायर ब्रिगेड की 18 गाड़ियां पहुंची। कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया गया है। बताया जा रहा है शॉर्टसर्किट के कारण कोचिंग सेंटर में आग लगी है। पीएम मोदी ने घटना पर दुख जताते हुए कहा है कि सूरत में लगी आग की घटना से दुखी हूं। मेरी संवेदना शोक संतप्‍त परिवारों के साथ है। घायलों के जल्‍द स्‍वस्‍थ होने की कामना करता हूं। गुजरात सरकार और स्‍थानीय अधिकारियों से प्रभावित लोगों को हर संभव मदद पहुंचाने के लिए कहा गया है। सूरत में एक बहुमंजिला इमारत में शॉर्टसर्किट के चलते आग लगने से वहां ट्यूशन पढ़ रहे बच्‍चों समेत 19 लोग जलकर मर गए। राज्‍य सरकार ने घटना की जिम्‍मेदारी सूरत महानगर पालिका पर डाल दी, वहीं फायर ब्रिगेड अधिकारी ने बताया कि इमारत की छत पर शैड में कई टायर पड़े थे। सूरत के सरथाणा इलाके में तक्षशिला इमारत में शुक्रवार दोपहर शॉर्ट सर्किट के कारण आग लग गई, यहां स्‍मार्ट डिजाइन स्‍टूडियो व ट्यूशन क्‍लासेज चल रहे थे। आग लगते ही इमारत की छत पर लगे शेड व वहां रखे टायरों ने आग पकड़ ली, जिससे पूरी इमारत धुआं से घिर गई। इस घटना में 15 बच्‍चों सहित 19 जलकर व दम घुटने से मौत हो गई। गंभीर रूप से घायलों का उपचार चल रहा है, जिनमें तीन की हालत नाजुक है। आग पर काबू पाने के लिए फायर ब्रिगेड ने मेजर कॉल की घोषणा की तथा हाईड्रोलिक वाटर कैनन से जलती इमारत पर पानी की बौछार की। आग लगते ही एक दर्जन से अधिक बच्‍चों व लोगों ने इमारत की तीसरी मंजिल से नीचे कूदकर अपनी जान बचाई। कई लोगों ने आग व इमारत से बच्‍चों के कूदने के वीडियो बनाकर सोशल मीडिया में भी चलाकर सरकार व प्रशासन के कामकाज पर सवाल उठाए। सरकार ने शहरी विकास विभाग के सचिव को मौके पर जाकर जांच रिपोर्ट बनाने को कहा है। सरकार ने तीन दिन में रिपोर्ट मांगी है। शिक्षा मंत्री भूपेंद्र सिंह चूडास्‍मा ने कहा कि जांच रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई की जाएगी। इस घटना के बाद सरकार ट्यूशन क्‍लासेस को मंजूरी बिना चलाने पर भी रोक लगा सकती है। हाल गुजरात में इसके लिए मंजूरी की जरूरत नहीं है, जिससे हर कहीं ऐसे ट्यूशन क्‍लास खुल गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*