एमएफएच व एफसीसी फिनटेक के लिए विकास परिवेश तैयार करने की दिशा में काम करेंगे

देहरादून। मुंबई फिनटेक हब (एमएफएच) और फिनटेक कन्वर्जेंस काउंसिल (एफसीसी) अब साथ मिलकर भारत में फिनटेक के लिए सहयोगपूर्ण विकास परिवेश तैयार करने की दिशा में काम करेंगे। उक्त दोनों ही संगठनों ने संयुक्त रूप से ‘इंडिया फिनटेक फेस्टिवल’ (आईएफएफ) को तैयार किया है, जो कि इंडस्ट्री की मुख्य चुनौतियों के बारे में चर्चा करने और उनके लिए संभावित समाधानों की तलाश करने हेतु एक वैश्विक मंच है। आईएफएफ 2020 को महाराष्ट्र सरकार का सहयोग प्राप्त है, चूंकि यह महाराष्ट्र सरकार की फिनटेक नीति के अनुसार संचालित होगा, महाआईटी के तहत परिचालित होगा। इस प्लेटफॉर्म को वर्ल्ड बैंक, नीति आयोग व इन्वेस्ट इंडिया का भी समर्थन प्राप्त है, जबकि फिनटेक के लिए वैश्विक नवाचार एवं अंतर्दृष्टि मंच, मेडिसी प्रोग्राम पार्टनर है।
भारत में फिनटेक आज प्रमुख विकास के प्रमुख बिंदुओं पर आधारित है, जैसे- वित्तीय सेवाओं में पैसा कम करना, औपचारिकता के लिए आधार के रूप में पहचान को हल करना, सभी को बैंक खाता या समकक्ष (पीएमजेडीवाई) प्राप्त करना, धन संग्रह करना, स्केलेबल बनाना प्लेटफॉर्म (धन) को स्थानांतरित करने के लिए (आईएमपीएस, यूपीआई, आदि) और अंत में, बैंकों, फिनटेक और धन बीमा उधार देने वाले खिलाड़ियों को यूपीआई जैसे प्लेटफॉर्म का उपयोग करने की अनुमति देता है। इस ढांचे ने भारत को फिनटेक क्रांति की ओर अग्रसर किया है। महाराष्ट्र सरकार और एफसीसी का लक्ष्य अब अगली पीढ़ी के नवाचार को बढ़ावा देना है, जो संपूर्ण वित्तीय सेवाओं के पारिस्थितिकी तंत्र में वित्तीय सशक्तिकरण और तकनीकी प्रगति को सक्षम बनाता है और इस प्रकार वैश्विक क्षमता के लिए क्षेत्र का पोषण करता है। सरकार देश को वैश्विक स्तर पर अगले फिनटेक गंतव्य बनाने पर ध्यान केंद्रित करके इस दिशा में पहला कदम उठाना चाहती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*