एबीपी न्यूज नेटवर्क ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में अपनी उपस्थिति का विस्तार किया

-एबीपी गंगा के साथ, एएनएन ने लोकसभा में 15% सीटें रखने वाले राजनीतिक रूप से महत्त्वपूर्ण राज्यों में प्रवेश किया 

देहरादून। अपनी मौजूदा उपस्थिति और पहुंच का विस्तार करते हुए, एबीपी न्यूज नेटवर्क ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के राज्यों में दर्शकों की जरूरतों को पूरा करने के लिए एक नया 24 घंटे का हिंदी समाचार चैनल एबीपी गंगा लॉन्च किया है। यह चैनल राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप और इस सेगमेंट में पहले से अनदेखे अनुभव के साथ, इस क्षेत्र के लिए सबसे अधिक प्रासंगिक समाचार देने के प्रति समर्पित है। भारत के सबसे बड़े और राजनीतिक रूप से सबसे प्रभावशाली हिंदी भाषी क्षेत्र में अपनी उपस्थिति का विस्तार करते हुए, एबीपी न्यूज नेटवर्क अपनी क्षेत्रीय उपस्थिति को मजबूत करने और दर्शकों एवं विज्ञापनदाताओं दोनों को शानदार मूल्य देने के लिए एक बड़ी छलांग लगाने के लिए तैयार है।

क्षेत्रीय समाचार टेलीविजन में एक नया मानदंड स्थापित करने के अलावा, एबीपी गंगा को भी फायदा होगा, यह एबीपी न्यूज नेटवर्क की सैद्धान्तिक पत्रकारिता में मजबूत और समृद्ध विरासत को आगे बढ़ाएगा, जिसके पास राष्ट्रीय हिंदी प्रमुख एबीपी न्यूज के अलावा तीन अन्य भाषाओं बंगाली (आनंद), मराठी (माजा) और गुजराती (अस्मिता) में बाजार अग्रणी चैनल हैं। चैनल की टैगलाइन है ष्खबर आपकी, जुबान आपकीष्, जो इस क्षेत्र के लोगों के साथ सही जुड़ाव पैदा करती है, उन्हें राष्ट्रीय मानकों के साथ प्रासंगिक स्थानीय समाचार पेश करती है एवं उनकी भावनाओं और मुद्दों के साथ इन राज्यों के लोगों से संबंध बनाने का लक्ष्य रखती हैय इसके लाइनअप डिबेट्स, चुनाव विशेष शो और प्राइम टाइम न्यूज बुलेटिन के अलावा प्रोग्रामिंग लाइनअप दर्शकों के साथ एक सच्ची जमीनी संपर्क प्रदान करने पर केंद्रित है। इलेक्शन अम्ब्रेला ब्रांड ष्2019 का अग्निपथष् के तहत, प्रोग्रामिंग में “सिंहासन 80”, “चरचा गरम है” और“ऑन ग्राउंड कॉन्क्लेव” जैसे शोज शामिल होंगे। एबीपी न्यूज नेटवर्क के सीईओ अविनाश पांडे ने एबीपी गंगा के लॉन्च पर टिप्पणी करते हुए कहा, ष्एबीपी न्यूज नेटवर्क में हमारे लिए यह बहुत गर्व की बात है क्योंकि हमने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के हमारे दर्शकों के लिए अपनी नवीनतम पेशकश – एबीपी गंगा का अनावरण किया है। दोनों राज्यों में भारत की आबादी का 16.5% हिस्सा शामिल है, लोक सभा में यहां कुल सीटों का 15% है और दोनों राज्य साथ मिलकर भारत की जीडीपी में लगभग 8.4% का योगदान देते हैं। यह सभी बातें हमें इन दोनों राज्यों में दर्शकों की सेवा करने का अवसर प्रदान करती हैं। चुनावों को देखते हुए, हमारा उद्देश्य व्यापक प्रोग्रामिंग लाइनअप से अपने दर्शकों को सभी जानकारियां मुहैया कराना और स्थानीय एवं सामाजिक मुद्दों से निपटना है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*