उप निरीक्षक जहांगीर अली को अन्वेषण में उत्कृष्टता के लिए किया जायेगा सम्मानित 

-चर्चित सरोजनी हत्याकांड का किया था खुलासा 
रुद्रप्रयाग। चर्चित सरोजनी हत्याकांड का खुलाशा करने वाले उप निरीक्षक जहांगीर अली को अन्वेषण में उत्कृष्टता के लिए केन्द्रीय गृहमंत्री पदक से सम्मानित किया जायेगा। पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार रतूड़ी, महानिदेशक (अपराध एवं कानून व्यवस्था) अजय सिंह ने उप निरीक्षक जहांगीर अली को इस उपलब्धि के लिए बधाई दी है। 
अपराध करके अपराधी कितना भी सजा से बचने की कोशिश क्यों न करे, लेकिन बुरे का अंजाम बुरा ही होता है और अपराधी पकड़ा ही जाता है। जिले में तैनात उप निरीक्षक जहांगीर अली ने जखोली क्षेत्र में हुए सरोजनी देवी हत्याकांड में महिला की हत्या व लूट की घटना का न सिर्फ खुलासा कर आरोपियों को गिरफ्तार किया, बल्कि निर्धारित समय के अन्दर चार्जशीट न्यायालय में दाखिल कर आरोपियों को उनके इस कृत्य की सजा भी दिलायी। दरअसल, सात अप्रैल 2017 को जिले के कोट-बांगर में सरोजनी देवी की हत्या की खबर सामने आयी, जिसमें आरोपियों को जल्द-जल्द से पकड़ने की मांग की गयी। आरोपियों ने सरोजनी की निर्मम हत्या कर शव को घर के पीछे ही दफनाया था। शव दफनाने के बाद आरोपी फरार हो गये। राजस्व क्षेत्र होने के बावजूद इसकी विवेचना पुलिस को दी गयी। घटना को कोई चश्मदीद गवाह और घटनास्थल से कोई महत्वपूर्ण साक्ष्य उपलब्ध न होने के बावजूद उप निरीक्षक जहांगीर अली ने अपने मुखबिर, सर्विलांस और वैज्ञानिक तथ्यों का प्रयोग करते हुए प्रकाश में आये अभियुक्तों के विरूद्ध निर्धारित समय के भीतर चार्जशीट न्यायालय में दाखिल की और अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश की अदालत ने बीते चार दिसम्बर को विरलतम श्रेणी का अपराध मानते हुए दो मुख्य आरोपियों मुकेश थपलियाल एवं सत्येश कुमार उर्फ सोनू को फांसी की सजा सुनाई। लूट का सामान खरीदने वाले सुनारों अवधेष शाह, राजेश रस्तोगी को भी तीन वर्ष के कठोर कारावास से दण्डित किया गया। हत्यारों की धरपकड़ करने पर उप निरीक्षक जहांगीर अली को अन्वेषण में उत्कृष्टता के लिए केन्द्रीय गृहमंत्री पदक से सम्मानित किया जायेगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*