उत्तराखंड सरकार आतिथ्य और पर्यटन क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित कर रहीः मनीषा पंवार 

देहरादून। राज्य परियोजना प्रबंधन इकाई ग्रामीण विकास विभाग उत्तराखंड सरकार ने होटल रामादा में दीनदयाल उपध्याय ग्रामीण कौशल योजना में पर्यटन और आतिथ्य क्षेत्र की कौशल की आवश्यकता विषय पर बैठक का आयोजन किया। कार्यक्रम का आयोजन मनीषा पंवार प्रमुख सचिव ग्रामीण विकास विभाग उत्तराखंड की अध्यक्षता में किया गया था। 
इस अवसर पर आतिथ्य और पर्यटन क्षेत्र के विभिन्न संगठनों जैसे उत्तराखंड होटल्स एसोसिएशनए इंडियन एसोसिएशन ऑफ टूर ऑपरेटर्स केएफसी एब्सोल्यूट बारबेक्यू आदि के वरिष्ठ सदस्यों ने उक्त कार्यक्रम में हिस्सा लिया। बैठक में उत्तराखंड के पर्यटन और आतिथ्य क्षेत्र की कौशल आवश्यकताओं पर विचार.विमर्श हुआ।
उत्तराखंड में डीडीयू.जीकेवाई योजना के तहत प्रशिक्षित उम्मीदवारों को उनके निरंतर रोजगार उपलब्ध कराने के लिए सोडेक्सो सफायर फूडस जुबिलिएंट फूडवर्क्स इशान फूड्स इको हॉस्पिटैलिटी और एब्सोल्यूट बारबेक्यू को सम्मानित किया गया। वे उम्मीदवार जो सफलतापूर्वक नियुक्त किये गये हैं और 10000 रुपये से अधिक मासिक वेतन प्राप्त कर रहे हैं। उनकी उपलब्धियों को पहचानते हुए उन्हें डीडीयू.जीकेवाई के शाइनिंग स्टार के रूप में सम्मानित किया गया। इस अवसर पर प्रमुख सचिव मनीषा पंवार ने कहा कि उत्तराखंड सरकार आतिथ्य और पर्यटन क्षेत्र पर ध्यान केंद्रित कर रही है। हाल ही में संपन्न निवेश डेस्टिनेशन उत्तराखंड में बहुत सारा निवेश सेक्टर के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि नियोक्ता अपेक्षित में कौशल कार्य बल की इच्छा व्यक्त किये हैं। यह इंगित किया गया कि राज्य में ही रोजगार के अवसर प्रदान करने की दिशा में अतिरिक्त प्रयास किए जाने की आवश्यकता है। डॉ प्रभाकर बेबनी मुख्य परिचालन अधिकारी डीडीयू.जीकेवाई उत्तराखंड सरकार ने उद्योग को परियोजना कार्यान्वयन एजेंसियों के रूप में भाग लेने इंटर्नशिप प्रदान करने नौकरी पर प्रशिक्षण और औद्योगिक भ्रमण यात्राओं के लिए प्रोत्साहित किया।
रंजीत सिन्हा सचिव कौशल विकास ने आवश्यक कौशल और सरकार के हस्तक्षेपों पर अपनी मूल्यवान अंतर्दृष्टि साझा की। उनका यह भी मानना है कि पर्यटन और कौशल पाठ्यक्रम को स्कूलों में कक्षा 8 वीं से ही शुरू करना चाहिए। एचएस चैहान के निर्देशन में सरकारी प्रतिनिधि और उद्योगपतियों की ओर से ड्रोल फूडस्पैन के निदेशक ने भविष्य के लिए तैयार कार्यबल के विकास के लिए कौशल और कार्यान्वयन मॉडल पर विचार.विमर्श किया। आज की दुनिया में डिजिटल मार्केटिंग की अपरिहार्य आवश्यकता के लिए रविंदर चैनन सीईओ स्किल्स रिपोर्टर ने इस पर जोर दिया। जिया सिद्दीकी ने पीपीपी प्रशिक्षण मॉडल की स्थापना में अपने विशाल अनुभव को साझा किया। डॉ प्रभाकर बेबनी मुख्य परिचालन अधिकारी डीडीयू.जीकेवाई उत्तराखंड ने इस आयोजन को सफल बनाने के लिए उद्योगों और अन्य प्रतिभागियों का धन्यवाद ज्ञापन दिया और साथ ही कार्यक्रम के आयोजन के लिए प्राइसवाटर हाउसकूपर्स की तकनीकी सहायता एजेंसी टीम का आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*