ई-रिक्शा संचालकों की सभा में धस्माना का संघर्ष करने का ऐलान

देहरादून। ई-रिक्शा संचालकों की मांगों को लेकर प्रेस क्लब में हुई आम सभा में प्रदेश कांग्रेस वरिष्ठ उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने इसके लिए संघर्ष करने का ऐलान किया। उन्होंने कहा कि ई-रिक्शा संचालकों की मांगों को लेकर इसी माह के अंतिम सप्ताह में देहरादून में एक रैली का आयोजन किया जाएगा।
प्रेस क्लब में ई-रिक्शा चालकों की संघर्ष समिति की ओर से आम सभा की गई। इस दौरान ई रिक्शा संचालकों ने अपनी मांगे जोरशोर से उठायी। उन्होंने सरकार पर उनकी घोर उपेक्षा करने का आरोप लगाया। साथ ही कहा कि देहरादून के मुख्य मार्गों में तीन महीनों से ई-रिक्शा पर प्रतिबंध रहने से चालकों के सब्र का बांध अब टूट रहा है। आम सभा की अगुवाई करते् हुए सूर्यकांत धस्माना ने कहा कि शहर में चलने वाले ई-रिक्शा के संचालन के मामले में डीजीपी अनिल रतूड़ी ने पिछली बैठक में पूरे मामले पर परीक्षण करवाने और ई-रिक्शा वालों को राहत देने का आश्वासन दिया था, लेकिन अब तक ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है। इस संबंध में संघर्ष समिति मंगलवार को वार्ता कर उसका नतीजा पूछेगी और अगर ई रिक्शा संचालकों को राहत नहीं मिली तो फिर लंबा आंदोलन शुरू किया जाएगा। धस्माना ने कहा कि सरकार ने देहरादून में करीब तीन हजार ई-रिक्शा संचालकों का मुख्य मार्गों में चलाना प्रतिबंध किया हुआ है। जिस कारण कई चालकों के आगे रोटी रोजी का संकट पैदा हो गया है। तमाम चालकों ने ई-रिक्शा खरीदते हुए बैंकों से लोन लिया था। जिससे बैंक की किस्त देनी भारी पड़ रही है। धस्माना ने कहा कि यह आश्चर्य की बात है कि एक तरफ तो पूरे देश व दूनिया में इलेक्ट्रिक वाहनों को सड़कों पर उतारने की बात की जा रही है तो दूसरी तरफ सरकार देहरादून में ई-रिक्शा को बाहर करने में लगी है। धस्माना ने कहा कि नवम्बर के अंतिम सप्ताह में सरकार के खिलाफ देहरादून में रैली का आयोजन किया जाएगा। इस मौके पर ई-रिक्शा संचालकों ने कहा कि रैली निकालकर ई-रिक्शा की चाबी बोरी में भरकर सीएम को सौंप दी जाएगी। इस मौके पर मारूफ राव, भुनेश, सतवीर आर्य, रविंद्र त्यागी, सुलेमान, धर्मेंद्र सोनकर समेत बड़ी संख्या में ई-रिक्शा चालक मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*