आकाश इंस्टीट्यूट के 114 छात्रों ने रिजनल मैथेमैटिकल ओलंपियाड के लिए क्वालिफाई किया

देहरादून। प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी कराने वाले संस्थानों में देश भर में अग्रणी आकाश एजुकेशनल सर्विसेज लिमिटेड (एईएसएल) के 114 छात्रों ने भारत में रिजनल मैथेमैटिकल ओलंपियाड प्रोग्राम (आरएमओ) 2019 के लिए क्वालिफाई किया है। आकाश से 2018 में रिजनल मैथेमैटिकल ओलंपियाड (आरएमओ) के लिए 90 छात्र क्वालिफाई हुए थे, लेकिन इस साल यहां आरएमओ क्वालिफाई करने वालों में 27 प्रतिषत की वृद्धि हुई है। इस प्रकार यहां देश में आरएमओ की परीक्षा की तैयारी कराने वाले संस्थानांे में सबसे अधिक वृद्धि दर्ज की गई।
यह बहुत गर्व की बात है, कि आरएमओ के लिए आकाश इंस्टीट्यूट से होने वाले चयन की संख्या पिछले कुछ वर्षों से लगातार बढ़ रही है। आरएमओ के लिए 2017 में यहां से केवल 28 छात्रों का चयन हुआ था, लेकिन 2018 में 90 छात्रों का चयन किया गया था, इस प्रकार इसमें रिकार्ड 278 प्रतिषत की वृद्धि हुई थी, जो कि आकाश इंस्टीट्यूट में नवीन शिक्षण पद्धति, पाठ्यक्रम और संकाय की उत्कृश्टता का प्रमाण है। यही नहीं, आकाश इंस्टीट्यूट के एक छात्र, आकाश सिन्हा को आरएमओ, 2019 के लिए अखिल भारतीय केंद्रीय विद्यालय टॉपर बनने का गौरव प्राप्त हुआ है। आरएमओ नेशनल बोर्ड फॉर हायर मैथमेटिक्स (एनबीएचएम) द्वारा की गई प्रमुख पहलों में से एक है। इसका मुख्य उद्देश्य देश में पूर्व-विश्वविद्यालय के छात्रों के बीच गणितीय प्रतिभा की पहचान करना है। उत्साहजनक परिणामों पर बात करते हुए, आकाश एजुकेशनल सर्विसेज लिमिटेड के निदेशक और सीईओ तथा प्लाक्षा विश्वविद्यालय के संस्थापक और ट्रस्टी आकाश चैधरी ने कहा, “इस वर्ष का परिणाम उम्मीद से कहीं अधिक है। आरएमओ परीक्षा 2019 में अच्छा प्रदर्शन करने वाले हमारे सभी छात्रों को बधाई। इसका श्रेय छात्रों और शिक्षकों द्वारा की गई कड़ी मेहनत और साथ ही आकाष में परीक्षा की गुणवत्ता पूर्ण तैयारी को जाता है।’’ आरएमओ इंटरनेशनल मैथेमेटिकल ओलंपियाड (आईएमओ) का दूसरा चरण है। भारत में मैथेमेटिकल ओलंपियाड प्रोग्राम भारत सरकार के परमाणु ऊर्जा विभाग (डीएई) के नेशनल बोर्ड फाॅर हाइअर मैथेमेटिक्स (एनबीएचएम) की ओर से होमी भाभा सेंटर फॉर साइंस एजुकेशन (एचबीसीएसई) द्वारा आयोजित किया जाता है। आरएमओ परीक्षा तीन घंटे की होती है जिसमें छात्रों को छह सवालों को हल करना होता है। आरएमओ परीक्षा में अपने प्रदर्शन के आधार पर, 8वीं से 12 वीं कक्षा के छात्र अब अगले चरण में इंडियन नेषनल मैथेमेटिकल ओलंपियाड (आईएनएमओ) के लिए प्रतिस्पर्धा करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*