आकाश इंस्टीट्यूट के छात्र चिराग व अभिनव प्रधानमंत्री नवाचार शिक्षण कार्यक्रम ‘धु्रव’ से सम्मानित

देहरादून। प्रतियोगिता परीक्षाओं की तैयारी कराने वाले संस्थानों में देष भर में अग्रणी आकाश इंस्टीट्यूट के दो छात्रों चिराग फालोर और अभिनव बरनवाल को विज्ञान और कला के क्षेत्र में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए भारत के माननीय उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू और मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने प्रधान मंत्री नवाचार शिक्षण कार्यक्रम-‘धुव’ से सम्मानित किया है। धु्रव प्रतिभाशाली छात्रों की पहचान करने और उन्हें 14 दिनों तक उत्कृष्टता के केंद्र में प्रषिक्षित करने का एक अनूठा कार्यक्रम है ताकि वे अपनी पूरी क्षमता तक पहुँच सकें और बेहतर तरीके से समाज के लिए काम कर सकें। कार्यक्रम का उद्घाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 10 अक्टूबर को इसरो मुख्यालय, बैंगलोर से किया था।
चिराग और अभिनव को बधाई देते हुए, आकाश एजुकेशनल सर्विसेज लिमिटेड (एईएसएल) के सीईओ और पूर्णकालिक निदेषक और प्लाक्षा विश्वविद्यालय में संस्थापक और ट्रस्टी आकाश चैधरी ने कहा, “यह बहुत गर्व की बात है कि आकाश इंस्टीट्यूट के दो छात्रों-चिराग और अभिनव को इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। हमें इस बात की खुशी है कि उनके द्वारा की गई मेहनत का उत्कृष्ट परिणाम मिला। इस प्रतिष्ठित पुरस्कार से आकाश इंस्टीट्यूट और उसके छात्रों के मनोबल को बढ़ावा मिलेगा और वे अपने जीवन में महान सफलता और ऊंचाइयों को प्राप्त करेंगे।’’धु्रव कार्यक्रम भारत सरकार द्वारा प्रतिभाशाली बच्चों की पहचान करने और उनके कौशल और ज्ञान को बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए शुरू किया गया था। धु्रव ने देश भर के सरकारी और निजी दोनांे के तरह के स्कूलों के 9वीं से 12वीं कक्षा के 60 प्रतिभाशाली छात्रों, विज्ञान के 30 छात्रों और परफार्मिंग आर्ट्स से 30 छात्रों को एक मंच पर लाया है। धु्रव कार्यक्रम के समापन के तौर पर हाल में आयोजित कार्यक्रम में विज्ञान समूह द्वारा परियोजनाओं का प्रदर्शन, परफार्मिंक आर्ट्स ग्रूप द्वारा एक सांस्कृतिक प्रदर्शन और सभी 60 छात्रों के द्वारा एक संयुक्त गायन-वादन प्रस्तुति पेष की गई जिसे प्रोफेषनल्स ने कोरियोग्राफ किया गया। इस डी-डे में प्रधान मंत्री नवीन शिक्षण कार्यक्रम ’धु्रव’ के पहले चरण के सफल लॉन्च का जश्न मनाया गया। ध्रुव के पहले बैच के छात्रों को धु्रव तारास की उपाधि दी गई और प्रत्येक छात्र को एक विशेष स्मृति चिन्ह भेंट किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*